Saturday, July 30, 2011

सेकुलरों की सच्‍चाई सुब्रमण्‍यम स्‍वामी की जुवानी

सुब्रमण्‍यम स्‍वामी
DNA: The terrorist blast in Mumbai on July 13, 2011, requires decisive soul-searching by the Hindus of India. Hindus cannot accept to be killed in this halal fashion, continuously bleeding every day till the nation finally collapses. Terrorism I define here as the illegal use of force to overawe the civilian population to make it do or not do an act against its will and well-being.

Islamic terrorism is India’s number one problem of national security. About this there will be no doubt after 2012. By that year, I expect a Taliban takeover in Pakistan and the Americans to flee Afghanistan. Then, Islam will confront Hinduism to “complete unfinished business”. Already the successor to Osama bin Laden as al-Qaeda leader has declared that India is the priority target for that terrorist organisation and not the USA.

Fanatic Muslims consider Hindu-dominated India “an unfinished chapter of Islamic conquests”. All other countries conquered by Islam 100% converted to Islam within two decades of the Islamic invasion. Undivided India in 1947 was 75% Hindu even after 800 years of brutal Islamic rule. That is jarring for the fanatics.

In one sense, I do not blame the Muslim fanatics for targeting Hindus. I blame Hindus who have taken their individuality permitted in Sanatan Dharma to the extreme. Millions of Hindus can assemble without state patronage for the Kumbh Mela, completely self-organised, but they all leave for home oblivious of the targeting of Hindus in Kashmir, Mau, Melvisharam and Malappuram and do not lift their little finger to help organise Hindus. If half the Hindus voted together, rising above caste and language, a genuine Hindu party would have a two-thirds majority in Parliament and the assemblies.

The first lesson to be learnt from the recent history of Islamic terrorism against India and for tackling terrorism in India is that the Hindu is the target and that Muslims of India are being programmed by a slow reactive process to become radical and thus slide into suicide against Hindus. It is to undermine the Hindu psyche and create the fear of civil war that terror attacks are organised.

Hindus must collectively respond as Hindus against the terrorist and not feel individually isolated or, worse, be complacent because he or she is not personally affected. If one Hindu dies merely because he or she was a Hindu, then a bit of every Hindu also dies. This is an essential mental attitude, a necessary part of a virat (committed) Hindu.

We need a collective mindset as Hindus to stand against the Islamic terrorist. The Muslims of India can join us if they genuinely feel for the Hindu. That they do I will not believe unless they acknowledge with pride that though they may be Muslims, their ancestors were Hindus. If any Muslim acknowledges his or her Hindu legacy, then we Hindus can accept him or her as a part of the Brihad Hindu Samaj (greater Hindu society) which is Hindustan. India that is Bharat that is Hindustan is a nation of Hindus and others whose ancestors were Hindus. Others, who refuse to acknowledge this, or those foreigners who become Indian citizens by registration, can remain in India but should not have voting rights (which means they cannot be elected representatives).

Any policy to combat terrorism must begin with requiring each and every Hindu becoming a virat Hindu. For this, one must have a Hindu mindset that recognises that there is vyaktigat charitra (personal character) and rashtriya charitra (national character). For example, Manmohan Singh has high personal character, but by being a rubber stamp of a semi-literate Sonia Gandhi and waffling on all national issues, he has proved that he has no rashtriya charitra.

The second lesson for combating terrorism is that we must never capitulate or concede any demand, as we did in 1989 (freeing five terrorists in exchange for Mufti Mohammed Sayeed’s daughter Rubaiya) and in 1999, freeing three terrorists after the hijack of Indian Airlines flight IC-814.

The third lesson is that whatever and however small the terrorist incident, the nation must retaliate massively. For example, when the Ayodhya temple was sought to be attacked, we should have retaliated by re-building the Ram temple at the site.

According to bleeding heart liberals, terrorists are born or bred because of illiteracy, poverty, oppression, and discrimination. They argue that instead of eliminating them, the root cause of these four disabilities in society should be removed. This is rubbish. Osama bin laden was a billionaire. In the failed Times Square episode, failed terrorist Shahzad was from a highly placed family in Pakistan and had an MBA from a reputed US university.

It is also a ridiculous idea that terrorists cannot be deterred because they are irrational and willing to die. Terrorist masterminds have political goals and a method in their madness. An effective strategy to deter terrorism is to defeat those political goals and to rubbish them by counter-terrorist action.Thus, I advocate the following strategy to negate the political goals of Islamic terrorism in India.

Goal 1: Overawe India on Kashmir.
Strategy: Remove Article 370 and resettle ex-servicemen in the valley. Create Panun Kashmir for the Hindu Pandit community. Look for or create an opportunity to take over PoK. If Pakistan continues to back terrorists, assist the Baluchis and Sindhis to get their independence.

Goal 2: Blast temples, kill Hindu devotees.
Strategy: Remove the masjid in Kashi Vishwanath temple and the 300 masjids at other temple sites.

Goal 3: Turn India into Darul Islam.
Strategy: Implement the uniform civil code, make learning of Sanskrit and singing of Vande Mataram mandatory, and declare India a Hindu Rashtra in which non-Hindus can vote only if they proudly acknowledge that their ancestors were Hindus. Rename India Hindustan as a nation of Hindus and those whose ancestors were Hindus.

Goal 4: Change India’s demography by illegal immigration, conversion, and refusal to adopt family planning.
Strategy: Enact a national law prohibiting conversion from Hinduism to any other religion. Re-conversion will not be banned. Declare that caste is not based on birth but on code or discipline. Welcome non-Hindus to re-convert to the caste of their choice provided they adhere to the code of discipline. Annex land from Bangladesh in proportion to the illegal migrants from that country staying in India. At present, the northern third from Sylhet to Khulna can be annexed to re-settle illegal migrants.

Goal 5: Denigrate Hinduism through vulgar writings and preaching in mosques, madrassas, and churches to create loss of self-respect amongst Hindus and make them fit for capitulation.
Strategy: Propagate the development of a Hindu mindset.

India can solve its terrorist problem within five years by such a deterrent strategy, but for that we have to learn the four lessons outlined above, and have a Hindu mindset to take bold, risky, and hard decisions to defend the nation. If the Jews could be transformed from lambs walking meekly to the gas chambers to fiery lions in just 10 years, it should not be difficult for Hindus in much better circumstances (after all we are 83% of India), to do so in five years.

Guru Gobind Singh showed us how just five fearless persons under spiritual guidance can transform a society. Even if half the Hindu voters are persuaded to collectively vote as Hindus, and for a party sincerely committed to a Hindu agenda, then we can forge an instrument for change. And that is the bottom line in the strategy to deter terrorism in a democratic Hindustan at this moment of truth.

(The writer is president of the Janata Party, a former Union minister, and a professor of economics.)

हिन्दुस्तान के हिन्दुओं के दमन का सेकुलर षड़यंत्र

प्रो. राकेश सिन्हा
प्रस्‍तुतिः डॉ0 संतोष राय
बाल गंगाधर तिलक, महर्षि अरविन्द,लाला लाजपत राय, स्वामी दयानन्दसरस्वती जैसी राष्ट्रवादी विभूतियों की बात तो दूर सोनिया पार्टी की मुस्लिम तुष्टिकरण राजनीति अगर इसी रफ्तार से जारी रही तो समाजवादी आचार्य कृपलानी, मार्क्सवादी बी.टी. रणदिवे, सर्वोदय नेता लोकनायक जयप्रकाश नारायण जैसे लोगों पर भी साम्प्रदायिक विद्वेष फैलाने, कथित अल्पसंख्यकों को आहत करने एवं दुष्प्रचार करने के आरोप लग सकते हैं। फिर न सिर्फ उनके लेखों एवं प्रकाशित भाषणों पर प्रतिबंध लग सकता है बल्कि उन सब पर मरणोपरांत मुकदमा भी चल सकता है। यह बात अतिशयोक्ति नहीं, एक कटु सत्य है। जे.पी. पर 194

6 में मुस्लिम लीग ने सूखा, बाढ़ राहत के दौरान हिन्दुओं को मुस्लिमों के खिलाफ भड़काने का आरोप लगाया था। केरल में मार्क्सवादी सरकार द्वारा पचास के दशक में नई शिक्षा नीति लागू की गई थी। तब ईसाइयों ने उसका जमकर विरोध किया था। उस समय रणदिवेंने कैथोलिक समुदाय को प्रतिक्रियावाद का एजेंट कहकर उन पर विदेशी धन का दुरूपयोग करने का आरोप लगाया था। आचार्य कृपलानी के एक भाई का इस्लाम में मत परिवर्तन कराया गया था। उसने अपने एक और भाई का अपहरण कर उसे जबरन इस्लाम में मतांतरित करा लिया था। तब कृपलानी ने इस्लाम पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि यह व्यक्ति को क्रूर बनाकर उसमें मजहब के प्रति अंधानुराग पैदा कर देता है। ये सभी बातें आपराधिक कानून के अंतर्गत आ जायेंगी यदि प्रिवेंशन ऑफ कम्युनल एंड टारगेटिग वायलेंस बिल-2011कानून बन जाता है तो।

जहर बुझा मसौदा

इस विधेयक के मसौदे पर गौर करें तो ऊपर कही गई बातों से कहीं अधिक घातक षड़यंत्र से पर्दा उठता है। विधेयक में कुल नौ अध्याय और 138 धाराएं हैं। सबसे दिलचस्प बात यह है कि यह विधेयक आखिरकार क्यों लाया जा रहा है और इसका उद्देश्य क्या है, इस पर एक शब्द नहीं है। यह देश के नागरिकों के आपस में शत्रुतापूर्ण भाव रखने वाले दो वर्ग बना देती है। एक वर्ग में पांथिक और भाषायी अल्पसंख्यकों तथा अनुसूचित जातियों एवं जनजातियों को रखा गया है। इसे ग्रुपके द्वारा सम्बोधित किया गया है। यही ग्रुप का तात्पर्य मूलतः मुस्लिम और ईसाई समुदायों से है। गु्रप से बाहर के लोगों को अन्य माना गया है।

इस विधेयक के अनुसार सिर्फ अल्पसंख्यकों यानी गु्रप के सदस्यों की जान-माल की किसी भी प्रकार की क्षति साम्प्रदायिक और उद्देश्यपूर्ण हिंसा मानी जायेगी। अगर हिन्दुओं की जान-माल की क्षति अल्पसंख्यक सदस्यों द्वारा पहुंचायी जाती है तो यह साम्प्रदायिक या उद्देश्पूर्ण हिंसा नहीं मानी जायेगी। (देखे धारा 3 (सी))। अल्पसंख्यक समुदाय के किसी व्यक्ति के व्यापार में बाधा पहुँचाने या जीविकोपार्जन में अड़चन पैदा करने या सार्वजनिक रूप से अपमान करने को शत्रुतापूर्ण वातावरण बनाने वाला अपराध माना गया है। कोई हिन्दू मारा जाता है, घायल होता है उसकी सम्पत्ति नष्ट हो जाती है, वह अपमानित होता है, उसका बहिष्कार होता है यह कानून उसे पीड़ित नहीं मानेगा। पीड़ित व्यक्ति इस मसौदे के अनुसार सिर्फ वही है जो इस ग्रुप का सदस्य है। अगर हिन्दू महिला अल्पसंख्यक वर्ग के किसी दुराचारी द्वारा बलात्कार का शिकार बनाई जाती है तो यह कानून उसे बलात्कार नहीं मानेगा। इस विधेयक (धारा 7) के अनुसार, अगर अल्पसंख्यक समुदाय की महिला के साथ कोई इस प्रकार की घटना गु्रप के बाहर के व्यक्ति के द्वारा घटती है तो उसे लैंगिग अपराध के लिए दोषी माना जायेगा। अर्थात् इमराना के ससुर द्वारा इमराना के साथ बलात्कार करना इस मसौदे के अनुसार बलात्कार नहीं था।

न बहस न विमर्श

इसमें गवाह की नई परिभाषा रची गई है। अल्पसंख्यकों के साथ घटी घटना की जानकारी रखने वाला ही गवाह होगा। इसके अनुसार बहुसंख्यकों के संबंध में जानकारी रखने वाला गवाह नहीं माना जायेगा। दुष्प्रचार को दूसरे अध्याय की धारा-8 में इस तरह परिभाषित किया गया है कि इतिहास में से लाल-बाल-पाल जैसे चिंतकों का लिखा तो प्रतिबंधित हो ही जायेगा, पंथनिरपेक्षता पर वैकल्पिक बहस भी समाप्त हो जायेगी। आप बाइबिल, कुरान, मुस्लिम पर्सनल लॉ, मुस्लिम नीतियों-कुरीतियों अल्पसंख्यक मांगों-आंदोलनों, संगठनों पर टीका-टिप्पणी, विमर्श नहीं कर सकते हैं। कोई भी दूसरा व्यक्ति (यानि हिन्दू) अगर बोलकर या लिखकर या विज्ञापन, सूचना या किसी भी तरह से ऐसा कुछ भी करता है जिसे अल्पसंख्यक समुदाय के किसी व्यक्ति या समुदाय के विरूद्ध भड़काऊ स्थिति पैदा करने वाला मान लिया जाता है तो उसे दुष्प्रचार फैलाने का अपराधी माना जायेगा। इतिहासकार मुशीरूल हसन ने तो लाल-बाल-पाल पर अल्पसंख्कों को स्वतंत्रता आंदोलन में अलग-थलग करने का दोषी माना था। यानी अब लाल-बाल-पाल को प्रकाशित करने, पढ़ने और उद्घृत करने वाले जेल जाने के लिए तैयार रहें।

विधेयक में कोई कसर नहीं छोड़ी गयी है। हिन्दू संगठनों को निशाना चतुराई से बनाया गया है। अगर बहुसंख्यक समाज का व्यक्ति अल्पसंख्यक समाज के लिए उपरोक्त किन्हीं भी अपराधों का दोषी है तो उस संगठन के मुखिया पर भी आपराधिक कानून लगाया जायेगा जिससे उसका प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष संबंध है। संगठन भले ही पंजीकृत हो या न हो।

हिन्दू ही होगा अपराधी

बचाव का बस यही रास्ता रह जायेगा कि बहुसंख्यक अल्पसंख्कों के मन, मानसिकता, मस्तिष्क के अनुकूल व्यवहार करें एवं दासता के भाव से रहें। शिया-सुन्नी, ईसाई-मुस्लिम झगड़े पर यह कानून लागू नहीं होगा। उन्हें दंगा करने का कथित विशेषाधिकार दिया गया है। अनुसूचित जाति या जनजातियों को इस मसौदे में इसलिए रखा गया है कि अगर आप उन पर ईसाई मिशनरियों ,द्वारा सुनियोजित मतांतरणया इस्लामिक पेट्रो डालर का उपयोग करने का आरोप लगाकर सत्य उजागर करेंगे तो आप पर आपराधिक कानून लागू होगा। एक और बात गौरतलब है कि इस मसौदे में कोई आरोपित नहीं बल्कि हर आरोपित स्वतः अपराधी मान लिया गया है। उसे ही साबित करना पड़ेगा कि वह अपराधी नहीं है।

पुलिस एवं नौकरशाही को अल्पसंख्यक का जैसे अन्तः वस्त्र बनाकर रख छोड़ा गया । कहीं भी कोई कथित अल्पसंख्कों के विरूद्ध दुष्प्रचार, घृणा फैलाने वाला महौल बना, कोई पोस्टर या लेख प्रकाशित हुआ या अल्पसंख्यक समुदाय के किसी व्यक्ति के जान-माल की कथित रूप से क्षति हुई तो पुलिस और प्रशासन को समान रूप से जिम्मेदार माना जायेगा। उन पर आपराधिक मुकदमा चलेगा। उनके लिए अपनी खाल बचाने का एकमात्र यही रास्ता होगा कि कहीं भी कोई अंदेशा हो या न हो, हिन्दुओं को गिफ्तार करते रहें। हिन्दुओं के खिलाफ दुष्प्रचार, हिन्दू देवी-देवताओें का अपमान या जान-माल की जितनी क्षति हो जाए पुलिस एवं प्रशासन को परेशान होने की आवश्यकता नहीं होगी।

इस विधेयक ने दो अपराधिक कानून बनाए हैं। अब तक मुसलमानों के पास वैयक्तिक कानून था। अब अलग आपराधिक कानून भी उन्हें परोसा जा रहा है। इस विधेयक के मसौदे का लक्ष्य एक देश-दो विधान ही नहीं,, बल्कि इसने तो देश के संघीय ढांचे को भी नष्ट करने का इंतजाम किया है।

(लेखक प्रसिद्ध स्तंभकार है)

क्या चीन भारत पर हमला करेगा?

शैलेन्‍द्र सिंह
प्रस्‍तुति-डॉ0 संतोष राय
1. आप दुनिया के नक्शे पर भारत की स्थिति देखिए तो पता चलेगा कि हम (भारत) बहुत ही खतरनाक जगह पर पहुँच चुके हैं। हालांकि हम तो अपनी जगह से नहीं हिले हैं लेकिन दुश्मनों ने हमको धीरे-धीरे चारों ओर से घेर लिया है। इतना ही नहीं, वह हमारे घर के अंदर भी पहुँच चुका है। बानगी देखिए...
चीन ने 50 साल पहले शांत और धीर-गंभीर तिब्बत को अचानक हड़प लिया और दुनिया देखती ही रह गई और कुछ नहीं कर पाई। तिब्बत चीन और भारत के बीच रक्षा दीवार था। लेकिन उसको हड़पने के बाद वह सीधे हमारे सिर के ऊपर आ गया। इसके बाद 1962 के भारत-चीन सीमा विवाद (इसे युद्ध समझें) में उसने हमारी 90 हजार वर्ग किमी भूमि हड़प ली। यह युद्ध उसने दो मोर्चों पर लड़ा
404; एक तो जम्मू कश्मीर, हिमाचल और उत्तरांचल से जुड़ा हिस्सा और दूसरी अरुणाचल वाला हिस्सा। उस युद्ध में हम हारे और चीन ने हमारा एक बड़ा हिस्सा हड़प लिया। कैलाश मानसरोवर जैसा तीर्थ हमारे हाथ से निकल गया और उस दिन के बाद से चीन तवांग और अरुणाचल प्रदेश को भी अपना हिस्सा बताने से नहीं चूकता।
चीन ने इतना करने पर अगला कदम कूटनितिक उठाया। उसने पाकिस्तान को हर संभव मदद मुहैया कराई। उसे भारत के खिलाफ ताकतवर बनाया और इस काम में अपने दूसरे सहयोगी उत्तर कोरिया को भी लगा दिया। पाकिस्तान के पास जितनी भी मिसाइलें और परमाणु हथियार हैं वो सब मेड इन चाइना और मेन इन ईस्ट कोरिया ही हैं। चीन ने पाकिस्तान को साधने के बाद नेपाल में माओवादियों के मार्फत अपनी पकड़ बनाई और संसार के एकमात्र घोषित हिन्दू राष्ट्र को माओवादियों का अड्डा बना दिया। इसके बाद उसने बांग्लादेश की ओर रुख किया और वहाँ खूब संसाधन जवाए। आतंकियों को भारत के खिलाफ मदद पहुँचाई। और उसे भारत विरोधी कर दिया जबकि बांग्लादेश को भारत ने ही पाकिस्तान के चंगुल से आजाद करवाया था।
चीन ने मालद्वीप को भी साध रखा है और वहाँ की इस्लामिक सरकार को भारत के खिलाफ इस्तेमाल कर रहा है। वहाँ उसका सैन्य अड्डा भी है और हवाई तथा नौसेना तैनाती भी है।
बर्मा की जुंटा सैन्य सरकार भी चीन की मित्र है क्योंकि दोनों ही राष्ट्र अपने को कम्युनिस्ट कहते हैं। हम सिर्फ अंडमान में इसलिए ही कोई विकास नहीं कर पाते क्योंकि भारत सरकार को पता है कि चीन किसी भी दिन अंडमान को हड़प सकता है।
चीन ने हाल ही में श्रीलंका में भी भारी मात्रा में निवेश किया है और लिट्टे के सफाए के बाद चीन श्रीलंका को पाकिस्तान के करीब लाकर भारत के खिलाफ इस्तेमाल करने की योजना बना रहा है।
दोस्तों, इस पूरी स्टोरी में एक दूसरा पहलू भी है। चीन ने भारत को अंदर से भी कमजोर करना शुरू कर दिया है। भारत के आधे राज्यों में नक्सली समस्या है। इनसे उलझने में हमारे काफी सारे अर्धसैनिक बल लगे रहते हैं। इनमें सीआरपीएफ प्रमुख है जो दशकों से जंगलों में इनके खिलाफ कैंप लगाए पड़ी हुई है। ये नक्सली भी चीन द्वारा प्रायोजित हैं और हम इनका कुछ नहीं बिगाड़ पा रहे हैं। इनका खौफ इतना अधिक है कि ये पुलिस के जवानों और कभी-कभी उसके बड़े अधिकारियों को तो चूहे-बिल्ली की तरह मार देते हैं। आंध्रप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू पर यह जानलेवा हमला कर चुके हैं, झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी के पुत्र को जान से मार चुके हैं और देश के पहाड़ी इलाकों में अपनी अलग सत्ता चलाते हैं। देश के 27 में से 7 प्रोजेक्ट टाइगर रिजर्व पर इनका कब्जा है और वहाँ सिर्फ इसी कारण प्रतिवर्ष होने वाली वन्यजीवों की गणना नहीं हो पाती।
इस बात से एक बात का और लिंक है जिसका मैं यहाँ उल्लेख कर देना उचित समझता हूँ। भारत के पास अग्नि, पृथ्वी जैसी मिसाइलें हैं। ये परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम हैं और चीन अग्नि की रेंज में आता है। ये मिसाइलें बहुत महंगी होती हैं और कम संख्या में बनाई जाती हैं। आसमानी पहरे या कहें सेटेलाइट की नजर से बचाने के लिए इन्हें हमेशा मोबाइल रखा जाता है। यानी रेलवे के माध्यम से या हैवी आर्मी व्हीकल के माध्यम से यह हमेशा चलती रहती हैं, एक जगह से दूसरी जगह। अगर इन्हें इस तरह से नहीं घुमाया जाए तो ये बड़े पहाड़ी क्षेत्रों में छुपाकर रखी जा सकती हैं। इसका एकमात्र कारण है कि युद्ध के समय सेटेलाइट से ट्रेक होकर चीन या अन्य कोई भी शक्तिशाली देश इनके जखीरे पर हमला कर इन्हें समूल नष्ट कर सकता है। लेकिन यहाँ दिक्कत यह है कि देश के पहाड़ी इलाके धीरे-धीरे नक्सलियों के कब्जे में आते जा रहे हैं। ऐसे में यकीन करना मुश्किल है कि हम पहाड़ों के बीच अपनी बेशकीमती मिसाइलों को सुरक्षित तरीके से छुपा पाएँगे।
2. क्या आपको नास्त्रेदमस की वो भविष्यवाणी याद है जिसमें उन्होंने कहा था कि तीसरा विश्वयुद्ध चीन और इस्लामिक देश मिलकर भड़काएँगे। दक्षिण एशिया से शुरुआत होगी और ओरियेंट (उन्होंने भारत का इसी नाम से उल्लेख किया है) सबसे पहले गुलाम बना लिया जाएगा। बाद में अमेरिका, जापान, ब्रिटेन और फ्रांस मिलकर भारत का साथ देंगे और अंत में विजयी होंगे। भारत भी विजेता बनेगा और बाद में महाशक्ति के तौर पर स्थापित होगा लेकिन सभी मित्र राष्ट्रों को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी।
मैंने आज ही वो खबर भी पढ़ी है जिसमें लिखा है कि भारत पर निशाना साधने के लिए पाकिस्तान ने अमेरिका से मिली हारपून मिसाइलों में कुछ परिवर्तन किए हैं और इसमें चीन ने निश्चित तौर से मदद की है। अमेरिका ने मिसाइलों की मूल डिजाइन के साथ छेड़खानी करने के लिए पाकिस्तान को चेताया भी है। दरअसल चीन के साथ पाकिस्तान भी भारत को अपना सबसे बड़ा दुश्मन मानता है। चीन पाकिस्तानी मानस को समझते हुए यह भी मानता है कि इस क्षेत्र में एकमात्र महाशक्ति बने रहने के लिए उसे भारत को हराना ही होगा क्योंकि रूस के टूटने के बाद भारत से ही उसे खतरा है। दूसरा वह यह भी मानता है कि अगर वो पाकिस्तान या बांग्लादेश के मार्फत भारत के खिलाफ बड़ा युद्ध छेड़ता है तो भारत के अंदर रह रहे 20 करोड़ मुसलमान भी उसका साथ देंगे और फिर नक्सली तो हैं ही। ऐसे में समझना मुश्किल नहीं है कि स्थिति विकट है और हम उस तरह से तैयार नहीं हैं। हम सिर्फ अपने घर में बैठकर अपने को सुरक्षित नहीं मान सकते। चीन का रक्षा बजट हमारे बजट से तीन गुणा ज्यादा है। इस वर्ष भारत जहाँ अपने डिफेंस बजट पर 27 अरब अमेरिकी डॉलर खर्च कर रहा है, वहीं चीन इस साल 70 अरब अमेरिकी डॉलर खर्च कर रहा है। हमारे पास कई शो-पीस हैं जैसे एयरक्राफ्ट कैरियर विराट, जो हमारे पास इकलौता है और ठीक से काम भी नहीं करता। प्रस्तावित कैरियर एडमिरल गोर्शकोव को रूस ने कई सालों से अटका रखा है, जबकि चीन के पास 12-13 एयरक्राफ्ट कैरियर हैं। टैंकों में भी वो सुविधा और संख्या के मामले में भारत से कहीं आगे है। ऐसे में हमारी शक्तिशाली और साथ ही बदमाश चीन के खिलाफ क्या स्ट्रेटेजी होगी इसपर कोई सोच नहीं रहा। हालांकि भारत ने हाल ही में कुछ कदम उठाए हैं लेकिन वो अपर्याप्त हैं।
जैसा कि आप जानते हैं कि सामरिक विशेषज्ञ किसी भी बात को बस यूँ ही नहीं कह देते। बल्कि कहें कि कोई भी विशेषज्ञ या शास्त्री (मसलन अर्थशास्त्री, समाजशास्त्री, मानवशास्त्री) भी झूठ क्यों बोलेगा। उसका अध्ययन जो इजाजत देगा वही वो भी बोलेगा। तो भरत कपूर के दावे को बस यूँ ही खारिज नहीं किया जा सकता। दूसरी बात, आपने मुंबई हमले के बाद ग्लोबल इंटेलीजेंस एजेंसी स्ट्रेटफोर की वो रिपोर्ट भी पढ़ी होगी जिसमें उसने कहा था कि इस हमले के बाद भारत को अपनी शक्ति दिखानी ही होगी और अपने को साबित करने के लिए भारत पाकिस्तान में कुछ चुनिंदा ठिकानों पर सैन्य कार्रवाई कर सकता है। हालांकि एजेंसी का यह दावा खाली गया क्योंकि हमने कुछ नहीं किया, चुप बैठे रहे और पाकिस्तान को डोजिएर (सुबूतों से भरे सूटकेस) देते रहे जिन्हें वह रद्दी की टोकरी में फैंकता रहा। बाद में सामरिक विशेषज्ञों ने कहा कि पाकिस्तान के पास परमाणु बम था इसलिए भारत चुप बैठा रहा क्योंकि क्षेत्र में परमाणु युद्ध छिड़ सकता था इसलिए शक्तिशाली देशों ने भारत पर हमला ना करने का जबरदस्त दबाव बनाया था। यह बात भारत के एक पूर्व थल सेना प्रमुख ने भी कही थी।
रूस के एक नामचीन प्रोफेसर ने कहा है कि 2020 तक अमेरिका भी ढह जाएगा। रूस के प्रसिद्ध शिक्षाविद प्रोफेसर आईगोर पानारिन ने यह बात काफी शोध के बात कही है। उन्होंने इसके पीछे का कारण अमेरिका की फिलहाल खस्ताहाल अर्थव्यवस्था और बराक प्रशासन के फेल्योर को बताया है। वैसे इस बात के लिए हर अमेरिकी उन्हें झक्की ही कहेगा लेकिन इतिहास गवाह है कि रूस के टूटने से पहले भी कोई वो सब नहीं सोचता था।
रूस बिखर जाएगा यह सिर्फ कोई अर्थशास्त्री ही सोच सकता था क्योंकि अर्थव्यवस्था चरमराने के कारण ही रूस ने अलग हुए मुस्लिम राष्ट्रों पर से अपना नियंत्रण ढीला किया और उन्हें रूसी संघ में साथ रखने से मना कर दिया। आज उसी बात को लेकर हाफिज सईद जैसे आतंकी संगठनों के सरगना यह कहते फिरते हैं कि भारत को भी रूस की तरह से तोड़ना उनका एकमात्र मकसद है और यह पूरा हो जाएगा क्योंकि रूस के लिए भी लोग असंभव शब्द का इस्तेमाल करते थे लेकिन हमने वो कर दिखाया।
आप लोग सोच रहे होंगे कि इतनी देर की बात में भी अभी तक चीन का जिक्र क्यों नहीं आया, तो मैं आपको याद दिलाना चाहूँगा कि यह सब बातें एक दूसरे से इंटरलिंक हैं। इस बात को पुख्ता करते हुए चीन के एक सामरिक विशेषज्ञ ने हाल ही में कह दिया था कि भारत को 20-30 टुकड़ों में तोड़ देना चाहिए। तो क्या इस्लामिक आतंकी संगठन, हाफिज सईद जैसे आतंकी सरगना और चीन की टोन (बातचीत का ढंग) एक जैसा नहीं है। दूसरा यह कि अमेरिका के लिए कहा जाता है कि जब भी उसकी अर्थव्यवस्था लड़खड़ाती है वह युद्ध करता है। क्या ऐसा चीन नहीं कर सकता जबकि उसके प्रोडक्ट (जिनकी क्वालिटी बेहद ही खराब होती है) को पूरी दुनिया में बैन किया जा रहा है। चीन और पाकिस्तान की मंशा एक जैसी है। दोनों रूस को अपना दुश्मन मानते थे और उसके टूटने पर दोनों ही खुशियाँ मनाते हैं और उसी उदाहरण को भारत जैसे देश के साथ दोहराने का ख्वाब देखते हैं।
चीन बहुत तेज है। वो अरुणाचल प्रदेश पर इसलिए नजर गड़ाए रहता है क्योंकि वहाँ से भारत के उस हिस्से तक आसानी से पहुँचा जा सकता है जहाँ से नॉर्थ-ईस्ट के सेवन सिस्टर्स कहे जाने वाले राज्य अलग होते हैं। उस हिस्से को चिकन नेक या बॉटल नेक (चूजे या बॉटल की गर्दन) कहा जाता है। वहाँ से वो सातों राज्य शेष भारत से अलग होते हैं। वहाँ से हमला कर वो भारत के सात राज्यों को तो एक ही झटके में अलग कर सकता है जैसे भारत ने पाकिस्तान से अलग बने पूर्वी पाकिस्तान (अब बांग्लादेश) को 1971 में एक ही झटके से अलग कर दिया था। भारत ने हाल ही में अरुणाचल प्रदेश और तेजपुर (असम) में सुखोई और अपनी टैंक स्क्वेड्रन की तैनाती की है। वो इसी संभावित हमले से निपटने के लिए है। चीन उत्तर पूर्व में हमारी गर्दन दबोचने के प्रयास में है और नक्सलवाद से जूझ रहे उन इलाकों में उसकी मंशा पूरी करने में बांग्लादेश भी उसका साथ दे सकता है। (वो बीएसएफ जवान की डंडे पर लटकी हुई लाश वाली तस्वीर तो याद है ना आपको जो टाइम्स आफ इंडिया में प्रथम पेज पर छपी थी और जिसने हमारे साथ-साथ भारत सरकार की भी नींद उड़ाकर रख दी थी, टुच्चे बांग्लादेशियों के दुस्साहस पर)

अमेरिका जब भी अर्थ संकट में फँसता है तो वह युद्ध करता है। ये इस तरह से समझा जा सकता है कि अमेरिका दुनिया को एक तो यह याद दिलाता रहता है कि तुम लोग भी युद्ध में फँस सकते हो इसलिए तैयार रहो। सनद रहे कि अमेरिका की जीडीपी का सबसे बड़ा हिस्सा उसके हथियार बेचने से आता है। आईटी-वाईटी सब गईं किनारे...। जिस अमेरिकी हारपून मिसाइल की पाकिस्तान को लेकर आजकल चर्चा चल रही है वो एक जरा सी मिसाइल 70 लाख अमेरिकी डॉलर में आती है। ऐसी 165 मिसाइलों की खेप पाकिस्तान ने अमेरिका से खरीदी थीं। ऐसे लाखों उपकरण वो हर वर्ष विकासशील और विकसित देशों को बेच देता है। उसके सबसे बड़े खरीदारों में सऊदी अरब भी शामिल है। कुल मिलाकर अमेरिका दुनिया में हथियारों का सबसे बड़ा सप्लायर है, उसके बाद रूस का और फिर चीन का नंबर आता है। लेकिन चीन बहुत जल्दी रूस को इसमें पीछे छोड़ देगा क्योंकि रूसी हथियारों की अब वो इज्जत नहीं रही जो शीत युद्ध के समय थी। इसलिए चीन अमेरिकी स्टाइल में चलते हुए सभी इस्लामिक देशों को हथियार सप्लाई करता है और युद्ध का महौल बनाए रखता है। जब भी भारत की ओर से चीन के व्यापार के खिलाफ कोई स्टेटमेंट जारी होता है चीन तुरंत सीमा विवाद को हवा देता है और कूटनीतिक सफलता पाते हुए भारत को पीछे हटने पर मजबूर कर देता है।
चीन हमेशा कुछ दूसरी ही बात समझता है। वो सोचता है कि अमेरिका उसे कुछ देशों के बीच कस रहा है जिन्हें वो कैंकड़े का पंजा कहता है। चीन का तर्क है कि जापान, भारत, ताइवान, दक्षिण कोरिया से वह घिरा हुआ है और आस्ट्रेलिया को भी अमेरिका उसके खिलाफ इस्तेमाल करता है। ऐसे में उसका सतर्क रहना जरूरी है जबकि चीन अगर थोड़ी समझदारी दिखाए तो सामरिक विशेषज्ञों के अनुसार अगर भारत, चीन और रूस मिल जाएँ तो अमेरिका का वर्चस्व दुनिया से खत्म कर सकते हैं। लेकिन हमारा स्वाभाविक शत्रु चीन यह बात कभी नहीं समझेगा और वही करेगा जिसे वह सही मानता है।
भारत के पास ज्यादातर हथियार रूस से खरीदे हुए हैं, अब वो अमेरिका और इसराइल के हथियार खरीद रहा है लेकिन चीन खुद ही हथियार बनाता है और उन्हें विकसित कर अन्य देशों को भी बेचता है। यहाँ सनद रहे कि चीन के पास दुनिया की सबसे बड़ी सेना है, हथियारों के मामले में चीन आत्मनिर्भर है और भारत पर भारी पड़ता है। अमेरिकी स्टाइल में वो अपने दुश्मन (फिलहाल नंबर एक पर अमेरिका और दूसरे नंबर पर भारत आता है) को शत्रुओं से घिरा रखना चाहता है लेकिन अमेरिका उससे काफी दूर है इसलिए फिलहाल उसका कांस्ट्रेशन भारत पर ही है। अमेरिका के लिए तो उसने आईसीबीएम (इंटर कॉन्टिनेंटल बैलियास्टिक मिसाइल) बना रखी हैं जो किसी भी महाद्वीप के किसी भी देश को अपना शिकार बना सकती हैं और वे परमाणु हथियार भी ले जा सकती हैं। ऐसी मिसाइलों की मारक क्षमता 5000 से 12000 किलोमीटर तक होती है। भारत भी अग्नि का अगला स्वरूप आईसीबीएम के रूप में ही बना रहा है।
दोस्तों, चाणक्य ने कहा था कि जिस देश की सीमा आपसे मिलती हो वो आपका स्वाभाविक शत्रु होता है। पूरे विश्व में अमेरिका-कनाडा को छोड़ दिया जाए तो सीमा मिले देशों की दोस्ती की कोई मिसाल नहीं मिलती। कोई ज्यादा तीव्र शत्रु है तो कोई कम तीव्र है। लेकिन शत्रु होना तय है। दुर्भाग्य से हम सभी ओर से शत्रुओं से घिरे हुए हैं। प्रकृति ने हमारी रक्षा के लिए हिंद महासागर और अरब सागर को तीन ओर रखा था और एक ओर हिमालय था लेकिन हमारा सबसे शक्तिशाली शत्रु चीन फिलहाल हमें हिमालय पर चढ़कर ही घूर रहा है।

आगामी 2014 के चुनाव के लिये उम्‍मीदवारों की योग्‍यताएं

1. उम्मीदवार का नाम:————————–
2.वर्तमान पता:
(१) जेल का नाम: ————————–
(२) सेल नंबर:—————————-
(३) कैदी नंबर ——————————
3.राजनैतिक पार्टी: ____________ _________
* आप अभी तक जिन दलों में शामिल थे उनमें से केवल पिछले पांच दलों का नाम दें
———————– ———————– ———————– ————————- ————————
4.राष्ट्रीयता { गोल चक्कर करे )
१ इतालियन
२ भारतीय
३ पाकिस्तानी
४ बांग्लादेसी
5 पिछली पार्टी छोड़ने के कारण (एक या अधिक को सर्कल करें )
२- निष्कासित
३-खरीद लिये गये
४ कोई कुर्सी नहीं मिली
५ घोटाले के कारण
६ मलाई की कमी
6.चुनाव लड़ने के लिए कारण (एक या अधिक को सर्कल करें ) :
१-पैसा बनाने के लिए
२- अदालत के मुकदमे से बचने के लिए
३- सत्ता का घोर दुरुपयोग करने के लिए
४-गरीबो को मिटाने के लिए
५-घोटाले करने के लिए
६ मैं नहीं जानता
(यदि आपका उत्तर ६ है तो अपनी विवेकशीलता के लिये एक गैर मान्यता प्राप्त गैर सरकारी रिश्वत खोर मनोचिकत्सक का प्रमाणपत्र संलग्न करें)
7 आपको कितने साल का जन सेवा का अनुभव है?
– 1-2 साल
– 2-6 साल
– 6-15 साल
– 15 + साल
8. आप के खिलाफ लंबित किसी भी आपराधिक मामले का विवरण दें (पूरी जानकारी देने के लिये आप जितने चाहे उतने अतिरिक्त पृष्ट जोड़ सकते हैं)
9.आपने कितने वर्ष जेल में बिताए हैं?
(कृप्या प्रश्न 7 से भ्रमित न हों)
– 1-2 साल
– 2-6 साल
– 6-15 साल
– 15- 20 साल
बीस साल से ज्यादा
10.आप किसी वित्तीय घोटाले में शामिल हैं?
१ -क्यों नहीं
निश्चित रूप से
४ -खानदानी धंधा
५ -मैं इस सब से इनकार करता हूं
मुझे इसमें एक विदेशी हाथ दि
11. आपकी वार्षिक भ्रष्टाचार आय क्या है?
१ -100-500 करोड़
२ -500-1000 करोड़
३ -कोई गिनती नहीं
(हवाला में डालर से की गयी कमाई को रुपयों में कनवर्ट करने के बाद शामिल करें)
12. क्या आपके मन में भारत के लिए कोई भी विकास योजना है?
उतर ————————————————————————————————————————————————–
13 नीचे दिये गये स्थान में अपनी उपलब्धियों का बखान करें:
उत्तर ——————————————————————————————————————————–१४.इनमे से कोनसे धंधे में आपकी रूचि सबसे ज्यादा है .
१.रिश्वेत लेने में ———————
२.हेरा फैरी में ————————-
३.हवाला के धंधे में ———————-
४.दलाली करने में —————————
५ सुपारी लेने में ———————
६ अपहरण करने में ———————————–
७.उपरोक्त सभी में ———————————–
१५. आपने कितने गुंडे पाल रखे हे.
उतर ——————————————–
यदि आप में ये सारी खूबिया है तो ही यह फॉर्म भर सकते है अन्यथा चुनाव आयोग आपका फॉर्म रद्द कर सकता है | और यदि पेज कम पड़े तो सादे पेपर में लिख सकते हो और इसको भरने के बाद चुनाव अधिकारी को भारतीय डाक द्वारा भेज दे पत्ता आप को मालूम होगा